Armaan Malik – Tumhe Apna Banane Ka Lyrics & pdf

Tumhe Apna Banane Ka Lyrics

Tumhe Apna Banane Ka Junoon: Lyrics from Hate Story-3 .This Song sung by Armaan Malik,neeti Mohan.This Song Music by AMAAL MALLIK.And Song Lyrics writing RASHMI VIRAG.This Song So Romantick Song Label T-SERIES


: Song Details :

SONG : TUMHE APNA BANANE KA
SINGERS : ARMAAN MALIK & NEETI MOHAN
MUSIC : AMAAL MALLIK
LYRICS : RASHMI VIRAG
MUSIC LABEL: T-SERIES

Tumhe Apna Banane Ka Lyrics From ( “Hate Story 3”)

तुम्हें अपना बनाने का जुनूँ
सर पे है, कब से है
“मुझे आदत बना लो एक बुरी”
कहना ये तुमसे हैतुम्हें अपना बनाने का जुनूँ
सर पे है, कब से है
सर पे है, कब से है

जिस्म के समंदर में एक लहर जो ठहरी है
उसमें थोड़ी हरकत होने दो
हो, शायरी सुनाती इन दो नशीली आँखों को
मुझको पास आ के पढ़ने दो

इश्क़ की ख्वाहिशों में
भीग लो बारिशों में, आओ ना

तुम्हें पाकर ना खोने का जुनूँ
सर पे है, कब से है
“मुझे नज़रों में रख लो तुम कहीं”
कहना ये तुमसे है

तुम्हें अपना बनाने का
सर पे है, कब से है
सर पे है, कब से है

रोकना नहीं मुझको, ज़िद पे आ गई हूँ मैं
इस कदर दीवानापन चढ़ा
देखो ना यहाँ आ के मेरा हाल कैसा है
टूट के अभी तक ना जुड़ा

अब सँभलना नहीं है
जो भी है वो सही है, आओ ना

तुम्हें खुद से मिलाने का जुनूँ
सर पे है, कब से है
“मुझे रहने दो अपने पास ही”
कहना ये तुमसे है

तुम्हें अपना बनाने का जुनूँ
सर पे है, कब से है
सर पे है, कब से है…

Thank you…


Tumhe Apna Banane Ka Lyrics

Lyrics In English Fonts

Tumhe apna banane ka junoon
Sar pe hai, kab se hai
Mujhe aadat bana lo ik buri
Kehna ye tumse hai

Tumhe apna banane ka junoon
Sar pe hai, kab se hai
Sar pe hai, kab se hai

Jism ke samandar mein
Ik lehar jo thehari hai
Usme thodi harqat hone do
Shayari sunaati inn do nasheeli aankhon ko
Mujhko paas aake padhne do
Ishq ki khwahishon mein
Bheeg lo baarishon mein
Aao na…

Tumhe paakar na khone ka junoon
Sar pe hai, kab se hai
Mujhe nazron mein rakh lo tum kahin
Kehna ye tumse hai

Tumhe apna banane ka junoon
Sar pe hai, kab se hai
Sar pe hai, kab se hai

Hmm.. rokna nahi mujhko
Zidd pe aa gayi hoon main
Iss qadar deewanapan chadha
Dekho na yahaan aake
Mera haal kaisa hai
Toot ke abhi tak na juda

Ab sambhalna nahi hai
Jo bhi hai wo sahi hai
Aao na…

Tumhe khud se milaane ka junoon
Sar pe hai, kab se hai
Mujhe rehne do apne paas hi
Kehna ye tumse hai

Tumhe apna banane ka junoon
Sar pe hai, kab se hai
Sar pe hai, kab se hai…

Thank You…

Be the first to comment

Leave a Reply